• एनएचडीसी निगम मुख्यालय का द्श्य

  • एनएचडीसी निगम मुख्यालय का पृश्य भाग का दृश्य

  • 1000 मेगावाट इंदिरासागर पावर स्टेशन – बांध डाउनस्ट्रीम

  • 1000 मेगावाट इंदिरासागर पावर स्टेशन – बांध अपस्ट्रीम

  • 520 मेगावाट ओंकारेश्वर पावर स्टेशन – बांध अपस्ट्रीम

  • 1000 मेगावाट इंदिरासागर पावर स्टेशन ट्रासफार्मर यार्ड

  • 520 मेगावाट ओंकारेश्वर पावर स्टेशन - विद्युत गृह & ट्रांसफार्मर यार्ड

  • 520 मेगावाट ओंकारेश्वर पावर स्टेशन विद्युत गृह का जनेरेटर फ्लोर

श्री अभय कुमार सिंह (59 वर्ष)

श्री अभय कुमार सिंह ने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दुर्गापुर (पूर्वनाम रीजनल इंजीनियरिंग कॉलेज, दुर्गापुर) से वर्ष 1983 में सिविल इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की ।

श्री सिंह ने वर्ष 1985 में एनएचपीसी के टनकपुर जल विद्युत परियोजना (120 मेगावाट) में परिवीक्षाधीन कार्यपालक के रूप में नियुक्ति के साथ अपने कैरियर की शुरूआत की । इनके अंदर मल्टीटास्क की क्षमता के साथ-साथ लगातार सीखने की प्रवृत्ति के परिणामस्वरूप, इन्होंने प्रारंभिक चरण में ही परियोजना की विभिन्न जिम्मेदारियों को बखूबी उठाया। इन्होंने परियोजना के विभिन्न घटकों जिसमें न केवल सिविल के क्षेत्रों, बल्कि हाइड्रो-मैकेनिकल के कार्य का भी प्रबंधन किया । अपनी रणनीतिक विचारों वाली मानसिकता, तथ्य-आधारित परिणाम उन्मुख निर्णय लेने की क्षमता के साथ, वे न केवल उपलब्ध संसाधनों का समुचित उपयोग करने में सक्षम रहे है बल्कि समय से पूर्व लक्ष्य हासिल करने में भी सक्षम है। अपने 35 वर्षों के पेशेवर जीवन में, इन्होंने अनेक जल विद्युत परियोजनाओं जैसे टनकपुर परियोजना (120 मेगावाट), धौलीगंगा परियोजना (280 मेगावाट), तीस्ता लो डैम चरण IV (160 मेगावाट), पार्बती चरण II (800 मेगावाट), पार्बती चरण III (520 मेगावाट) और किशनगंगा जल विद्युत परियोजना (330 मेगावाट) की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है । इन्होंने इन परियोजनाओं में प्रमुख परियोजना घटकों के निर्माण प्रबंधन से लेकर परियोजना प्रमुख (एचओपी) और क्षेत्रीय प्रभारी की जिम्मेदारियां सफलतापूर्वक निभाई हैं। जल विद्युत विकास में अपने व्यापक अनुभव के कारण, इनके पास जटिल साइट चुनौतियों, जैसे स्थानीय मुद्दों, तकनीकी व व्यवसायिक मुद्दों का प्रबंधन, पुन: संघटन, आदि से निपटने की बेहतरीन क्षमता हैं । भारत में जल विद्युत विकास और जल संसाधन क्षेत्र में इनके योगदान को स्वीकार करते हुए, आरईपीए (रिन्यूएबल एनर्जी प्रमोशन एसोसिएशन) और ईनर्शिया फाउंडेशन ने इन्हें 'हाइड्रो रत्न’ के पुरस्कार से सम्मानित किया है।

वास्‍तविक रूप से एक मजबूत टीम लीडर होने के बावजूद भी, वे स्वामित्व, उत्तरदायित्व क्षमता, ज्ञान, और कंपनी में समान प्रवृति की सोच से टीम की भूमिका में दृढ़तापूर्वक विश्वास करते है। वे जलविद्युत परियोजनाओं के विकास में समर्पित रहे हैं, तथा उसी तरह विद्युत क्षेत्र में उन्नति और अन्य नवीनीकरण सहित विविधीकरण के लिए भी मुखर रहे है। उनका किसी भी परियोजना में तेज़ी लाने और विकास के लिए समय-निर्धारण, निष्पादन, निगरानी और अत्याधुनिक निर्माण उपकरणों/मशीनरी में नई तकनीकों को विकसित करने के प्रति दृढ़ विश्वास रहा है।

वे वर्तमान में लोकतक डाउनस्ट्रीम हाइड्रोइलेक्ट्रिक डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड में नामित निदेशक के रूप में भी कार्य कर रहे है।
श्री वी.के. सिन्हा, इलेक्ट्रिकल में इंजीनियरिंग स्नातक है उन्होने उत्तराखंड में टनकपुर जल विद्युत परियोजना से वर्ष 1989 में एनएचपीसी में परिवीक्षाधीन कार्यपालक के रूप में अपना पेशेवर करियर शुरू किया ।

एनएचपीसी में 32 वर्षों से अधिक के अपने विशिष्ट करियर के दौरान, श्री सिन्हा ने नई ऊंचाइयों को छुआ और कार्यकारी निदेशक के पद पर पदोन्नत हुए । श्री सिन्हा को टनकपुर, चुटक, पार्बती-2 पावर स्टेशन, कलपोंग जलविद्युत परियोजना (ए एंड एन) और कुरिचु जलविद्युत परियोजना (भूटान) के साथ-साथ हाइड्रो पावर प्लांट के संचालन और रखरखाव के निर्माण, परीक्षण और कमीशनिंग का व्यापक अनुभव है ।

एनएचपीसी के साथ अपने लंबे जुड़ाव के दौरान उन्होंने उल्लेखनीय योगदान के साथ संगठन की सेवा की है । उन्होंने नियामक ढांचे के भीतर बिजली स्टेशनों के परिचालन प्रदर्शन को अनुकूलित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है । वह अपने दूरदर्शी दृष्टिकोण और उत्कृष्ट प्रदर्शन रिकॉर्ड के साथ गतिशील निर्णय लेने के लिए जाने जाते हैं । एक पेशेवर प्रबंधक और रणनीतिक योजनाकार के रूप में, उन्होंने जल विद्युत संयंत्रों की विश्वसनीयता और दक्षता में सुधार के लिए कई पहलूओं का नेतृत्व किया है । ओ एंड एम डिवीजन, कॉरपोरेट ऑफिस में अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने एनएचपीसी के सभी 20 हाइड्रो पावर स्टेशनों पर सर्वोत्तम ओ एंड एम प्रथाओं के अनुकूलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है । उन्होंने 180 मेगावाट बैरास्यूल पावर स्टेशन की पुरानी इकाइयों के सफल नवीनीकरण और आधुनिकीकरण में प्रमुख भूमिका निभाई ।

श्री. वी.के. सिन्हा ने मैनेजमेंट कंसल्टेंसी कॉन्ट्रैक्ट के तहत इथियोपियाई इलेक्ट्रिसिटी पावर कॉरपोरेशन (EEPCO) में सुधार के लिए NHPC विशेषज्ञ प्रतिनिधि के रूप में वर्ष 2013-15 के दौरान O&M हेड एक्जीक्यूटिव पद भी संभाला । वह वर्तमान में राष्ट्रीय उच्च शक्ति परीक्षण प्रयोगशाला (एनएचपीटीएल), बीना जिला सागर मध्य प्रदेश, जो कि एनएचपीसी, एनटीपीसी, पीजीसीआईएल, डीवीसी और सीपीआरआई की संयुक्त उद्यम कंपनी हैं, के अध्यक्ष और नामित निदेशक के रूप में भी जुड़े हुए हैं ।

Rewa Ultra Mega Solar Ltd., a Joint Venture of GoMP & SECI has issued LoA to NHDC for development of 88 MW Omkareshwar floating Solar Park. The LoA was given away by Principal Secretary (Energy) & NRE, GoMP to Sh. V.K. Sinha, MD, NHDC.
NHDC registered with Invoicemart TReDG Platform (Reg. ID-1000013474)

निविदा और बोलियां

 

Supply, Retrofitting, Testing & Commissioning of 1600A Air Circuit Breaker at Unit Auxilary Boards of Omkareshwar Power Station

ABB Make LV Bushing with Copper Stem for ABB make 80 MVA, 11/220 KV, Delta/ Star Generator Transformer

Procurement of Next generation Firewall for installation at NHPC Corporate Office, Faridabad

PROCUREMENT OF SINGLE LOADING COMPUTED RADIOGRAPHY SYSTEM (SLCRS) FOR THE PROJECT HOSPITAL OF INDIRA SAGAR POWER STATION, NARMADA NAGAR, DISTT KHANDWA MP (2/C/1427)

PURCHASE OF TONER/DRUM CARTRIDGES FOR XEROX PRINTER AT INDIRA SAGAR POWER STAION, NARMADA NAGAR, DISTT KHANDWA, M.P. (2/C/1422)

Providing and Fixing of suitable M.S. Railing along the berm constructed on vertical face of U/s of Power House at Indira Sagar Power Station, Narmada Nagar, Distt. Khandwa (M.P.).

Annual rate contract for the repair work of various LED light fittings installed at Indira Sagar Power Station, Narmada Nagar, Distt. Khandwa (M.P.).

Supply of 19” panel mounted touch screen monitor for LCU Panel of Power House Automation System

Upgradation of existing Air Gap and Vibration Monitoring System of Omkareshwar Power Station

Providing services of 09 (Nine) Nos. vehicle Mahindra Bolero B4, or equivalent or higher version Model 2021 & onwards 6+1 seating capacity, Ex-Showroom condition along with driver for Omkareshwar Power Station, Siddhwarkut, District. Khandwa (MP

 

ई-प्रोक्योरमेंट  सभी को देखें >>

chairman

  एनएचपीसी लिमिटेड के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक, श्री अभय कुमार सिंह ने दिनांक 24.02.2020 को एनएचडीसी लिमिटेड के अध्यक्ष का कार्यभार ग्रहण किया है |

श्री अभय कुमार सिंह
अध्यक्ष, एनएचडीसी लिमिटेड एवं अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक, एनएचपीसी लिमिटेड अधिक पढ़ें >>

chief-executive-director

  श्री विजय कुमार सिन्हा, वर्तमान में प्रबंध निदेशक के पद पर कार्यरत है

श्री विजय कुमार सिन्हा
प्रबंध निदेशक अधिक पढ़ें >>

 

पावर स्टेशन

इंदिरा सागर पावर स्टेशन

इंदिरा सागर परियोजना मध्यप्रदेश के खंडवा जिले में पुनासा गांव से 10 किलो मीटर दूर नर्मदा नदी पर एक बहुउद्देशीय परियोजना है,। इस परियोजना की आधारशिला भारत की तत्कालीन प्रधानमंत्री स्वर्गाीय श्रीमति इंदिरा गांधी दृारा दिनांक 23.10.1984 को रखी गई । जिसकी सस्ंथापित विद्युत क्षमता 1000 मेगावाट है तथा इससे 2698.00 मिलियन यूनिट विद्युत का वार्षिक उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है।

अधिक पढ़ें

 

पावर स्टेशन

ओंकारेश्वर पावर स्टेशन

ओंकारेश्वर पावर स्टेशन एक बहुउद्देशीय परियोजना है, जो विद्युत उत्पादन के साथ मध्यप्रदेश के खंडवा, खरगोन और धार जिलों में नर्मदा नदी के दोनों तटों पर सिंचाई सुविधा उपलब्ध करेगी। यह इंदौर से 80 किलो मीटर की दूरी पर है और इंदिरा सागर परियोजना से 40 किलो मीटर डाउन स्ट्रीम (निम्न जल प्रवाह) में स्थित है।

अधिक पढ़ें

  • Application Development and Maintenance by Cyfuture